Social Icons

Pages

Saturday, August 11, 2012

चुगली करता है चेहरा

जब अंदर ही अंदर
हम बुन रहे होते हैं
चिंताओं का नर्क
कितना भी छुपाओ
चुगली करता है चेहरा

अहंकार छीलता है जब कभी
चुगली करता है चेहरा

कभी अज्ञात नहीं होती सुंदरता
आँखों के कुछ निशचित पैमानों से
हम खोज ही लेते हैं उसे
बहुरूपताये मापी जाती हैं
मापे जाते हैं बहुरूपिये
मापी जाती हैं लिपि-पुती सुंदरता

सीमाएं कुरूप हैं
असीम है सुंदरता

आइना होता है जब कभी रुबरु
कितने भी छुपाएँ जाये दुःख
चुगली करता है चेहरा

मन के रहस्य आतुर हैं
आत्मा को जानने के लिए
सतह पर घूमती है काली छाया
चुगली करता है चेहरा

देह में मन जैसे
गर्भ में शिशु होता है सुन्दर
पृथ्वी पर बीज-खुद को तलाशती
अदृश्य हवा-पत्ते पर ओस की बूँद
जैसे चुम्बन के बीच गर्म साँसे

स्मृतियों की गहराई में कुलबुलाती हैं
जब कभी कोमल इच्छाएं-चुगली करता है चेहरा

अनंत शान्ति में जहाँ तक
देखा जा सकता है और नहीं भी
चीज़े तेज़ी से बदल रही हैं
बदल रहा है चेहरा, शरीर, घर और वस्त्र

सबको चाहिए बस एक चिर-परिचित
ग्रीनरूम-नाटक से पहले
कि हमारे भीतर जागे कोई खलनायक
जब कभी चुगली करता है चेहरा
अंदर ही अंदर जब हम बुन रहे होते हैं
चिंताओं का नर्क
चुगली करता है चेहरा

-अजामिल

No comments:

Post a Comment